Wednesday, 5 August 2015

मध्य प्रदेश में बड़ा ट्रेन हादसा, दो ट्रेनों की 10 बोगियां नदी में गिरीं, अब तक 29 की मौत

राष्ट्रीय उजाला संवाददाता।
हरदा। मध्य प्रदेश के हरदा के पास उफान भर रही माचक नदी पर बने पुल को पार करते हुए दो एक्सप्रेस ट्रेनें आज रात पटरी से उतर गईं। दुर्घटना में कई यात्रियों के मारे जाने की आशंका है। मुंबई से वाराणसी जा रही कामायनी एक्सप्रेस रात करीब 11:45 बजे भोपाल से करीब 160 किलोमीटर दूर हरदा के पास पटरी से उतर गई और इसके 6 डब्बे माचक नदी में गिर गए। वहीं जनता एक्सप्रेस भी इसी समय पटरी से उतर गई और उसकी 4 बोगियां पटरी से उतर गईं। जनता एक्सप्रेस जबलपुर से मुंबई जा रही थी।
अब तक का पल पल का अपडेट पढ़ें-
#जनता एक्सप्रेस में इंजन के अलावा 18 बोगी होती है, लेकिन हरदा स्टेशन पर सिर्फ 14 बोगी पहुंची-बी के उपाध्याय
#हरदा के स्टेशन मास्टर बी के उपाध्याय, हमारे स्टेशन से 21 किमी. दूर हुआ हादसा। कामायनी एक्सप्रेस की 10 बोगी लेकर स्टेशन पहुंची। कुल मिलकर 26 बोगियां थीं।
#मरने वालों में 6 पुरुष, 4 महिलाएं, 2 बच्चे शामिल।
#हरदा के एसपी प्रेमबाबू शर्मा ने कहा, अब तक 12 शव बरामद किए गए हैं।
#सीएम शिवराज चौहान का बयान, घटनास्थल पर मेडिकल टीमें रवाना कर दी गई हैं, हम रेलवे प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।
#जनता एक्सप्रेस अभी भी घटनास्थल पर ही।
#किरेन रिजिजु का बयान, बढ़ सकती है मृतकों की संख्या
#सेना भी बचाव-राहत कार्य के लिए मौके के लिए रवाना
#एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 70 लोगों की टीम भोपाल से रवाना हुई।
#रेलवे प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए
भोपाल 09752460088
भोपाल- 07755-4061609
हरदा 0780-2222052
इटारसी- 0757-22411920
वाराणसी- 0542-2504221
मुंबई 022-5280005
सुबह साढ़े तीन बजे पहुंची मदद
रेलवे पीआरओ ने कहा, अब तक 250 लोग बचाए गए।
अब तक तीन शव निकाले गए, 120 लोगों को बचाया गया।
पटरी पानी में डूबी हुई थी और कामयानी एक्सप्रेस के डब्बे नदी में गिर गए। वहीं कुछ दूरी पर जनता एक्सप्रेस भी पटरी से उतर गई। कामायनी ट्रेन में करीब 697 यात्री सवार थे। मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी है। हालांकि अंधेरा होने के कारण राहत कार्य में मुश्किलें आईं। इटारसी, भोपाल और भुसावल से राहत और बचाव टीमें रवाना हो गईं। रेलवे ने हरदा, बीना और भोपाल में हेल्पलाइन स्थापित कर दी हैं। भोपाल से एनडीआरएफ की टीम और मऊ से सेना की टुकड़ी मौके पर रवाना कर दी गई है।
रेलवे प्रवक्ता अनिल सक्सेना के अनुसार, पटरियों पर पानी था और पुल डूबा हुआ था। इस वजह से कामायनी एक्सप्रेस के आखिरी डिब्बे पटरी से उतर गए। लगभग उसी समय दूसरी पटरी पर जनता एक्सप्रेस का इंजन और डिब्बे भी पटरी से उतर गये। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के हताहत होने की आशंका है।
हरदा के कलेक्टर रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि खिड़किया और हरदा स्टेशन के पास माचक नदी पर घटना घटी। उन्होंने कहा कि दोनों ट्रेनों के कुछ डिब्बे और इंजन पानी में हैं। जबलपुर से मुंबई जा रही जनता एक्सप्रेस भी उसी जगह पटरी से उतरी गई। होशंगाबाद के डिवीजनल कमिश्नर वी के बाथम ने यह जानकारी दी।
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट किया – आपात चिकित्सा और अन्य राहतकर्मी मौके पर पहुंच रहे हैं। अंधेरे और पानी से बाधा आ रही है लेकिन हर संभव मदद का आदेश दिया है। अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बोगियों को बाहर निकालने के प्रयास जारी हैं।
रेल मंत्री ने अपने ट्वीट में कहा कि हम सूचना के आधार पर हरसंभव मदद के लिए तैयारी कर रहे हैं, कोई कोशिश नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि रेलवे प्रशासन और मध्य प्रदेश सरकार कामायनी एक्सप्रेस दुर्घटना के बाद यात्रियों को बचाने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। जीएम, डीआरएम, आरपीएफ और मेडिकल स्टाफ को पहुंचने का निर्देश दिया है। रेलवे अधिकारी दो ट्रेनों के पटरी से उतरने की वजह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

No comments:

Post a Comment