Wednesday, 5 August 2015

नीतीश ने पीएम मोदी को लिखी नाराज़गी से भरी खुली चिट्ठी, बोले, डीएनए वाला बयान वापस लें

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुली चिट्ठी लिखी है। इस पत्र में नीतीश ने पीएम मोदी की ओर से हाल में बिहार में आयोजित एक चुनावी रैली के दौरान उनके ‘डीएनए’ पर की गई टिप्पणी को लेकर कड़ा एतराज जताया है। साथ ही, 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर रैली में दिए गए उनके डीएनए वाले बयान को वापस लेने की मांग की है। नीतीश ने पत्र में लिखा कि आपने (मोदी) हमारे डीएनए पर सवाल उठाए हैं, जिससे ये मेरा ही नहीं बल्कि पूरे बिहार का अपमान है। अब पीएम मोदी 9 अगस्त को गया में रैली करने वाले हैं। उसके पहले नीतीश कुमार ने पीएम को खुली चिट्ठी लिख दी है। गौर हो कि नीतीश इस चिट्ठी को आज ट्विटर पर शेयर किया है। बता दें कि नीतीश ने कुछ दिनों पहले ही अपना ट्विटर अकाउंट खोला है। पीएम मोदी ने पिछले महीने बिहार में हुए एक चुनावी रैली में कहा था कि, नीतीश ने न सिर्फ मेरा बल्कि जीतन राम मांझी जैसे महादलित का भी अपमान किया है। ऐसा लगता है कि उनके ‘डीएनए’ में कुछ गड़बड़ है क्योंकि लोकतंत्र का डीएनएन इससे अलग होता है। लोकतंत्र में आप अपने राजनैतिक प्रतिद्वंदियों को भी इज्जत देते हैं।
नीतीश ने उसी समय मोदी पर पलटवार करते हुए कहा था कि पीएम को मेरे डीएनए में दिक्कत नजर आती है। मैं बिहार का बेटा हूं और मेरा डीएनए वही है जो पूरे बिहार के लोगों का है। मैं अब बिहार के लोगों पर छोड़ता हूं कि वे ऐसे व्यक्ति के बारे में क्या सोचते हैं जो उनके डीएनए का अपमान करता है। ऐसी उम्मीद है कि नीतीश अपने चुनावी कैंपेन में पीएम मोदी की इस टिप्पणी को  बिहार का अपमान’ के रूप में पेश करेंगे।

No comments:

Post a Comment